छठ पूजा कब है ? छठ पूजन का शुभ मुहूर्त कब है ?

छठ पूजा कब है

छठ पूजा कब है ?

छठ पूजा कब है यह सवाल अक्सर पूछा जाता है.छठ पूजा को लेकर लोग सालभर उत्साहित रहते है.छठ पूजा हिंदु धर्म के प्रमुख त्योहारों में से एक है.खासकर उत्तर भारत में इस पर्व को जोरशोर से मनाया जाता है.छठ पूजा कार्तिक शुक्ल पक्ष के षष्ठी को मनाया जाता है.दीवाली के बाद आनेवाला यह त्यौहार चार दिनों तक चलता है.छठ पूजा को छठ, छठी माई के पूजा, छठ पर्व,डाला छठ,डाला पूजा और सूर्य षष्ठी के नाम से भी जाना जाता है.

इस साल छठ पूजा का पर्व 13 नवंबर 2018 को मनाया जायेगा.

छठ पूजा का मुहूर्त – छठ पूजा कब है ?

छठ पूजा की तारीख 13 नवंबर 2018
सूर्योदय का समय – 06:41
सूर्यास्त का समय– 17:28
षष्ठी तिथि आरंभ – 01:50 (13 नवंबर 2018)
षष्ठी तिथि समाप्त – 04:22 (14 नवंबर 2018)

छठ पूजा का स्वरुप – छठ पूजा कब है ?

छठ पूजा चार दिनों तक चलती है.यह पर्व कार्तिक मास के शुक्ल पक्ष के चतुर्थी से सप्तमी तक मनाया जाता है.इन चार दिनों में कार्तिक शुक्ल षष्टी का दिन मुख्य होता है. छठ पूजा के चार दिन कुछ इस तरह के है.

यह भी पढ़िए :-होली कब है?होलिका कौन थी?होलिका के पति का नाम क्या था?

खाए नहाए

छठ पूजा का पहिले दिन को खाए नहाए कहा जाता है. इस दिन लोग अपने घरो की सफाई करते है. घर और परिसर को स्वच्छ कर रात में भोजन का कार्यक्रम होता है.

खरना

छठ पूजा का दुसरा दिन होता है खराने का.खरने का मतलब व्रत का दिन.इस दिन निराहार व्रत किया जाता है.इस दिन अन्न के साथ साथ पानी का भी सेवन वर्जित होता है. व्रती पूरा दिन अन्न जल सेवन के बिना रहते है. रात को गुड़ चावल की खीर बनाकर प्रसाद की तरह बाटा और सेवन किया जाता है.

संध्या अर्घ्य

छठ पूजा का सबसे महत्वपूर्ण दिन संध्या अर्घ्य का होता है.इस दिन भी व्रती दिनभर उपवास करते है.दिनभर उपवास के बाद श्याम को ढलते सूर्यदेवता को अर्ध्य दिया जाता है. बादमे रात में छठी माता के भजन गाए जाते है, छठ की व्रत कथा सुनी जाती है.इस दिन रातभर जगराता किया जाता है.

उषा अर्घ्य

छठ पूजा का आखरी दिन होता है उषा अर्घ्य.इस दिन सूर्योदय से पूर्व ही लोग तालाब और नदी किनारे जमा हो जाते है.सूर्योदय के समय भगवान सूरज को अर्ध्य चढ़ाया जाता है.इसके बाद महिलाए अपनी संतान के लंबी आयु और खुशहाली के लिए प्रार्थना करती है.पूजा के बाद प्रसाद बाटकर व्रती अपना व्रत खोलते है.

छठ पूजा का महत्त्व – छठ पूजा कब है ?

हिंदु धर्म में छठ पूजा एक महत्वपूर्ण पर्व है.छठ पूजा भगवान सूर्य और उनकी पत्नी उषा को समर्पित है.

छठ पूजा को लेकर कही कहानिया प्रसिद्ध है.इनमेसे एक भगवान राम से जुडी हुयी है.वनवास ख़त्म होने के बाद जब भगवान राम अयोध्या लौटे तब उन्होंने माँ सीता के साथ षष्टि के दिन भगवान सूर्य की उपासना की थी.तबसे जनमानस में सूर्य की पूजा का प्रचलन बढ़ा है.

ऐसी ही और एक कहानी के अनुसार माता कुंती ने सूर्य की उपासना की थी.तब उन्हें कर्ण के रूप में सूर्य जैसा तेजस्वी पुत्र प्राप्त हुआ.इसके बाद सूर्य की आराधना कर पुत्र की दीर्घायु के लिए कामना करने का प्रचलन बढ़ गया.

नोट:- हमें उम्मीद है आपको अपने सवाल “छठ पूजा कब है” का जवाब मिल गया होगा.इस आर्टिकल में लिखी गयी सभी जानकारी को लिखनें मे बेहद सावधानी बरती गयी है.फिर भी किसी भी प्रकार त्रुटि की संभावना से इनकार नही किया जा सकता.इसके लिए आपके सुझाव कमेंट के माध्यम से सादर आमंत्रित हैं.

शेयर करे !