डेंगू के लक्षण कौनसे है ?

डेंगू के लक्षण

डेंगू क्या है? डेंगू के लक्षण कौनसे है ?

जानलेवा डेंगू के लक्षण जानने से पहले डेंगू क्या है और इस बिमारी की गंभीरता को जानना जरुरी है.आसान भाषा में समझाया जाए तो,डेंगू एक रोगाणु यानि वायरस है जो एडीज जाती के मच्छरों के काटने से होता है.एडीज जाती के मच्छर बरसात के मौसम में आसानी से देखे जा सकते है.काले और धारियों वाले यह मच्छर ज्यादा उचाई पर नही उड़ सकते.यह मच्छर आम तौर पर जुलाई से अक्टूबर के बिच पनपते है.एडीज मच्छर सुबह लोगों को काटते है.
जब कोई एडीज मच्छर किसी डेंगू के मरीज को काटता है तो वह उस मरीज का खून चूस लेता है.खून के साथ साथ वह डेंगू का रोगाणु भी चूस लेता है.यही मच्छर जब किसी स्वस्थ व्यक्ति को काटता है, तो डेंगू के रोगाणु उसके शरीर में चले जाते है और उसे भी डेंगू हो जाता है.

यह भी पढ़िए :-

वैसे डेंगू जानलेवा नही है फिर भी लापरवाही बरतने पर इंसान की जान जा सकती है. हेल्थ मिनिस्ट्री के रिपोर्ट के अनुसार साल 2017 में देशभर में कुल 188401 मरीज पाए गए थे.जिनमेसे तकरीबन 300 लोगों की मौत हो गयी थी.यह आकडे पिछले 10 सालो में सबसे ज्यादा है.इसलिए डेंगू के लक्षण को अच्छे से समझकर वक़्त पर इलाज करवाना बेहद जरुरी है.

इस आर्टिकल में हम कुछ शुरुआती डेंगू के लक्षण बताएंगे.इन लक्षणों को समझकर आपको डेंगू से सतर्क रहने का प्रयास करना चाहिए.

डेंगू के लक्षण

डेंगू के लक्षण

जैसा की हमने बताया डेंगू एडीज नाम के मच्छर के काटने से होता है.इस मच्छर के काटने के 3-10 दिनों के भीतर डेंगू के लक्षण दिखने लगते है.वैसे तो डेंगू के लक्षण आम बुखार की तरह ही होते है.लेकिन इसे आम बुखार समझकर लापरवाही करना मुसीबत को न्योता देने जैसा है.यहाँ पर हम कुछ आम और शुरुआती डेंगू के लक्षण बताने वाले है,जिन्हें जानकर और समझकर आप अपनी और अपने परिवार के सदस्यों की स्वास्थ्य को सुरक्षित बना सकते है.

सिरदर्द

सिरदर्द होना सबसे आम और शुरूआती डेंगू के लक्षण में से एक है.मच्छर काटने पर डेंगू वायरस इंसान के खून में फैलने लगता है.इसके 3-10 दिनो के भीतर डेंगू के लक्षण सामने आने लगते है.इन लक्षणों में सबसे पहले सिरदर्द ही सामने आता है.

बुखार

डेंगू से संक्रमण हो जानेपर मरीज को बार बार बुखार आता है.हर दो तिन दिन के बाद मरीज का बुखार चढता और उतरता है.डेंगू में आनेवाला बुखार आम बुखार की तरह ही होता है.इसलिए ज्यादातर लोग इसकी तरफ ध्यान नही देते और डेंगू का शिकार हो जाते है.

बेहद ज्यादा ठण्ड लगना

डेंगू का बुखार में मरीज को बेहद ज्यादा ठण्ड लगती है.तेज बुखार में यह ठण्ड बदन में अकड़न पैदा करती है. मरीज के हाथ पैर और बदन ठंडा पडने लगता है.मरीज को खुदके अंग महसूस नही होते है.

हड्डियों और जोड़ो में दर्द

ठण्ड की वजह से बदन,हड्डियों और मांसपेशीयो में अकड़न बढ़ जाती है.इसी अकड़न के कारण हड्डियों और जोड़ो में दर्द होने लगता है.संक्रमण के बाद हड्डियों में होनेवाली बेतहाशा दर्द की वजह से डेंगू को हड्डीतोड़ बुखार कहा जाता है.

उल्टी और दस्त

डेंगू संक्रमण के बाद मरीज को उल्टी, दस्त जैसी समस्याओं का सामना करना पड़ता है.डेंगू की वजह से इंसान के शरीर की पाचन शक्ति कमजोर पड़ जाती है. इसके वजह से मरीज खाना हजम नही कर पाता और उसे उल्टी और दस्त होते है.

साँस लेने में दिक्कत होना

साँस लेने में दिक्कत होना डेंगू के लक्षण में से एक है.डेंगू के हर मरीज में यह लक्षण नही दिखाई देता.लेकिन जिस भी मरीज में यह लक्षण दिखता है, उसके लिए यह परेशानी साबित होती है.साँस लेने में असक्षम व्यक्ति बैचन महसूस करता है.

बैचेनी

डेंगू के संक्रमण के बाद इंसान की रोगप्रतिकारक शक्ति कमजोर पड़ जाती है.सिरदर्द, बुखार,साँस लेने में दिक्कत जैसी समस्याओं की वजह से मरीज मानसिक तौर पर कमजोर पड़ जाता है.इसी वजह से मरीज को बैचेनी होने लगती है.कई बार यह बैचेनी निराशा में बदल जाती है.

रैशेज और खुजली

एडीज मच्छर के काटने पर बदन पर खुजली होती है.इसी खुजली के कारण बदन पर रैशेज आते है और दाग पड जाते है.

आँखो के पिछले हिस्सों में दर्द होना डेंगू के लक्षण है

डेंगू के मरीजो को आँखो में जलन का सामाना करना पड़ता है.बैचेनी के कारण मरीज की नींद पूरी नही होती.इसी वजह से मरीज के आँखो में जलन होती है.कई बार मरीजो को आँखे हिलाने पर आँखो के पीछे दर्द महसूस होता है.

नाक से और त्वचा के निचे से खून बहना

डेंगू के लक्षण में सबसे खतरनाक लक्षण है खून बहना.डेंगू के शुरुआती लक्षणों को अनदेखा कर लापरवाही बरतने पर डेंगू का बुखार बढ़ जाता है.ऐसी स्थिति में कई बार मरीज के नाक से खून बहने लगता है. नाक के साथ साथ मरीज के त्वचा के निचे से भी खून के बहता है और इससे शरीर पर खून के धब्बे बन जाते है.

शेयर करे !