डोरेमोन कार्टून क्या है ?

डोरेमोन कार्टून

डोरेमोन कार्टून क्या है?

यह लोकप्रिय कार्टून जापानी 3डी एनीमेशन प्रोग्राम है.इसे फुजिको एफ. फुजिओ ने लिखा और कॉमिक के रूप में उतारा है.डोरेमोन कार्टून प्रोग्राम “नोबिता नोबि” नाम के लड़के और भविष्य से आया रोबोट “डोरेमोन” की दोस्ती के ऊपर बनाया गया है.


लिंक:-   

    1:- डोरेमोन के एपिसोड यहाँ देखे

2:- छोटा भीम कार्टून यहाँ देखे

3 :- मोटू पतलू कार्टून यहाँ देखे


नोबिता नोबि स्कूल में पढने वाला एक आम लापरवाह बच्चा है.नोबिता पढाई,खेलकूद,डांस,गाना इनमेसे किसी में भी बेहतर नही है.इस वजह से उसके दोस्त उसे चिढ़ाते है.अपनी लापरवाही और कई बार अपने दोस्तों की वजह से नोबिता मुसीबतों में पड़ जाता है.जब वह खुद इन मुसीबतों का सामना नही कर पाता तब रोते हुए डोरेमोन को मदत माँगने पहुच जाता है.

बिल्ली की तरह दिखने वाला डोरेमोन बाइसवीं सदी यानि भविष्य से आया हुआ रोबोट है.डोरेमोन के पास एक पॉकेट होता है जिनमे भविष्य की ढेरसारी गैजेट होते है.इन गैजेट की मदत से नामुमकिन चीजे भी आसानी से करी जा सकती है.जब भी नोबिता किसी मुसीबत में पड़ जाता है तब डोरेमोन अपने पॉकेट से किसी गैजेट को निकालकर उसे दे देता है.

लेकिन नोबिता इतना लापरवाह है की वह इन गैजेट का लापरवाही से इस्तेमाल करता है और फिर एक नई मुसीबत में पड़ जाता है.नोबिता को सबक सिखाने के लिए डोरेमोन कुछ देर तक नोबिता की मदत नही करता, लेकिन बादमे डोरेमोन को नोबिता पर तरस आता है और वह उसकी मदत करता है.

डोरेमोन कार्टून की शुरुआत कैसे हुयी?

मूलतः डोरेमोन फुजिको एफ. फुजिओ नाम के जापानी कार्टूनिस्ट द्वारा लिखी गयी माँगा कॉमिक है.माँगा एक तरह की जापानी मैगज़ीन होती है,इसे हम कॉमिक बुक कह सकते है.डोरेमोन कार्टून मैगज़ीन की शुरुआत साल 1969 में हुयी थी.मैगज़ीन के रूप में डोरेमोन को काफी पसंद किया गया.साल दरसाल इस मैगज़ीन की खपत भी बढती गयी.अबतक तकरीबन 10 करोड़ से ज्यादा डोरेमोन मैगज़ीन बेचीं गयी है.

कॉमिक के रूप में सफलता के बाद डोरेमोन कार्टून को साल 1979 को एनीमेशन के रूप में टीवी पर लाया गया.देखते ही देखते टीवी पर भी डोरेमोन कार्टून पॉपुलर हो गया.डोरेमोन कार्टून की लोकप्रियता को देखकर जापानी सरकार ने डोरेमोन को जापान का सबसे पहला कार्टून एम्बेसडर घोषित किया.

भारत में डोरेमोन कार्टून की शुरुआत

डोरेमोन कार्टून ने भारत में साल 2005 में कदम रखा.तब यह हंगामा टीवी पर हिंदी भाषा में दिखाया गया.भारत में आने के बाद डोरेमोन कार्टून ने धीरे धीरे अपने पैर फ़ैलाने शुरू किए,और बेहद कम वक़्त में यह कार्टून भारत का सबसे ज्यादा देखा जानेवाला कार्टून प्रोग्राम बन गया.उस वक़्त भारत में कार्टून को लेकर बेहद ज्यादा विकल्प नही थे.इसलिए डोरेमोन कार्टून को भारत में अपने पैर फ़ैलाने में ज्यादा मुश्किल नही हुयी.

भारत में डोरेमोन कार्टून को सिर्फ एक ही दिक्कत का सामान करना पड़ा और वह थी भाषा.उत्तर भारत में बहुसंख्यक आबादी हिन्दीभाषी होने की वजह से डोरेमोन की लोकप्रियता उत्तर भारत में जल्दी बढ़ी, लेकिन दक्षिण भारत में डोरेमोन को कोई खास पहचान प्राप्त नही हुयी.इसलिए डोरेमोन कार्टून के निर्माताओं ने इसे हिंदी के साथ साथ तेलुगु और तमिल भाषा में डब किया. निर्माताओं की यह योजना कामयाब रही.अब उत्तर के साथ साथ दक्षिण भारत के बच्चे भी डोरेमोन कार्टून को पसंद करने लगे थे.भारत में तक़रीबन 10 में से हर तीसरा बच्चा डोरेमोन देखता है.

लोकप्रियता के शिखर तक पोहचने के बावजूद बीते कुछ सालों में डोरेमोन को “छोटा भीम” और “मोटू पतलू” जैसे देसी कार्टून प्रोग्राम ने तगड़ी टक्कर दी है.फिलहाल भारत में छोटा भीम सबसे ज्यादा देखा जानेवाला कार्टून प्रोगाम है. इसके बाद “टॉम एंड जेरी,मोटू पतलू, रूद्र, शिवा,ऑग्गी एंड कॉकरोच” जैसे कार्टून शो से डोरेमोन को टक्कर मिल रही है.

डोरेमोन कार्टून के किरदार

इस कार्टून में ढेरों किरदार है, जो एपिसोड के हिसाब से बदलते रहते है.लेकिन इनमेसे कुछ किरदार हर एपिसोड में दिखाई देते है.इनमे नोबिता, डोरेमोन, सुझुका, जियान, सुनियो, नोबिता की माँ, नोबिता के पिता, डोरेमी, डेकिसुगी और टीचर तकरीबन हर एपिसोड में दिखाई देते है.

डोरेमोन कार्टून के किरदारों का विवरण

नोबिता

डोरेमोन कार्टून

नोबिता स्कूल में पढने वाला एक आलसी और लापरवाह लड़का है.नोबिता को सोना बेहद पसंद है.उसे नही पढाई में अच्छे मार्क आते है और नही नोबिता खेलकूद में दिलचस्पी रखता है.नोबिता के इसी आलसीपन और लापरवाही की वजह वह मुसीबतों में पडता है. वैसे नोबिता कितना भी आलसी और शरारती क्यों न हो लेकिन वह दिल से बड़ा अच्छा है.नोबिता को दूसरों की मदत करना बेहद पसंद है.

डोरेमोन

डोरेमोन कार्टून

नोबिता इतना बहादुर तो है नही की खुद मुसीबतों का सामना कर सके, इसलिए नोबिता डोरेमोन को मदत मांगता है.डोरेमोन भविष्य से आया हुआ एक रोबोट है जो एक बिल्ली की तरह दिखता है, लेकिन चूहों से बेहद डरता है.जब भी नोबिता उसके पास मदत मांगने के लिए आता है,तब डोरेमोन अपने पॉकेट से कोई गैजेट निकालकर नोबिता को देता है और उसकी मदत करता है.

सुझुका

डोरेमोन कार्टून

सुझुका नोबिता की खास दोस्त है जो उसीके साथ उसके क्लास में पढती है.सुझुका को पियानो बजाना बेहद पसंद है, साथ ही उसे खाना बनाना भी बेहद पसंद है.नोबिता सुझुका को अपनी भविष्य में होनेवाली बीवी मानाता है और उसके लिए कुछ भी करने के लिए तैयार रहता है.

जियान

डोरेमोन कार्टून

गोलमटोल जियान को गाना गाना बेहद पसंद है, लेकिन वह बेहद बेसुरा है.जियान जबरदस्ती अपना बेसुरा गाना नोबिता और अन्य दोस्तों को सुनाता है.जियान नोबिता के दोस्तों में सबसे ताकदवर है.जियान अपनी ताकद का इस्तेमाल नोबिता और अन्य कमजोर बच्चों को परेशांन करने के लिए करता है.वह छोटे बच्चों से उनके खिलोने और उनका खाना छिन लेता है.दोस्तों को परेशांन करने के बावजूद वक़्त पडने पर जियान दोस्तों की मदत के लिए सबसे आगे रहता है.

सुनियो

डोरेमोन कार्टून

सुनियो एक मतलबी लड़का है जो जियान के साथ रहता है.नोबिता को परेशान करने के लिए सुनियो जियान को उकसाता है.सुनियो का परिवार बेहद आमिर है, इसलिए वह महँगे महँगे खिलोने दिखाकर नोबिता को चिढ़ाता है.

डेकिसुगी

डोरेमोन कार्टून

यह क्लास का सबसे बुद्धिमान बच्चा है.सुझुका और डेकिसुगी कई बार साथ में अपना होमवर्क करते है इसलिए नोबिता डेकिसुगी से जलता है.

डोरेमी

डोरेमोन कार्टून

भविष्य में रहनेवाली डोरेमी डोरेमोन की बहन है.डोरेमी डोरेमोन से उन्नत रोबोट है.इसलिए जब नोबिता और डोरेमोन किसी मुसीबत में फस जाते है तब उन्हें बचाने के लिए डोरेमी भविष्य से आती है.

इनके अलावा नोबिता के माता पिता, सुझुका की माँ, सुनियो की माँ और कजन भाई,जियान की माँ और बहन और टीचर को भी कई एपिसोड में देखा जा सकता है.

●◆★ समाप्त ★◆●

नोट:- इस आर्टिकल में लिखी गयी सभी जानकारी को लिखनें मे बेहद सावधानी बरती गयी है.फिर भी किसी भी प्रकार त्रुटि की संभावना से इनकार नही किया जा सकता.इसके लिए आपके सुझाव कमेंट के माध्यम से सादर आमंत्रित हैं.

शेयर करे !