साई बाबा के सबसे मशहूर भजन कौनसे है? साईं बाबा के भजन !

साईं बाबा के भजन

शिर्डी साईं बाबा के भक्त दुनियाभर में है.साईं बाबा के भजन देश के कोने कोने में गाये जाते है.इन्ही तमाम भजन और फ़िल्मी गीतों में से सबसे मशहूर साईं बाबा के भजन इस आर्टिकल में लिखे गए है.उम्मीद हे आपको पसंद आयेंगे!


साईं बाबा के भजन 1- साईराम साई शाम साई भगवान

साई राम साई शाम साई भगवान,

शिरडी के दाता सबसे महान,

करुणा के सागर दया निधान,

शिरडी के दाता सबसे महान ।।

 

साई चरण की धुल को माथे जो लगाओगे,

पुण्य चरों धाम का शिरडी में ही पाओगे,

होगा तुम्हारा वहीँ कल्याण,

शिरडी के दाता सबसे महान ।।


यह भी पढ़िए:- 


कोई शहंशाह उनको कहे शिवका ही तो रूप हैं,

छाया हैं वह धर्म की कर्म की वह धुप हैं,

पढ़ते जो आये हैं वेद पुराण,

शिरडी के दाता सबसे महान ।।

 

मानवता के साई रवि दया के साई चाँद हैं,

साँची प्रेम डोर से रहे वो सबको बांधे हैं,

मंदिर मस्जिद एक सामान,

शिरडी के दाता सबसे महान ।।

 

सबको समझते वह एक सा राजा हो या रंक हो,

भेद और भाव के मिटा रहे कलंक को,

सबको समझते निज संतान,

शिरडी के दाता सबसे महान ।।

 

साई के द्वार हर घडी सत्य की बरखा हो रही,

झूठे इस जहाँ के पाप काले धो रही,

करते है शंका का समाधान,

शिरडी के दाता सबसे महान ।।

 

दर रहित कशिश भरी साई से निर्मल प्रीत लो,

दुश्मनी जो कर रहे उनके दिल भी जीत लो,

सबपे चलाते प्रेम के बाण,

शिरडी के दाता सबसे महान ।।

 

साई हमें सीखा रहे सबका मालिक एक है,

एक सी नज़र से वह रहे सभी को देख हैं,

करते न सहते जो अभिमान,

शिरडी के दाता सबसे महान ।।

 

साई के द्वार शीश धार दो घडी जो सो गए,

नफरतों के नाग भी विष रहित वह हो गए,

हर एक मुश्किल वह करते आसान,

शिरडी के दाता सबसे महान ।।

 

साई के दर असर होता हर दिली फ़रियाद का,

बे-औलाद पा गए सुख वहां औलाद का,

बे-जान भी वहां पा गए जान,

शिरडी के दाता सबसे महान ।।

 

दूर अँधेरे कर रही साई भजन की रोशनी,

रोग सोग हर रही साई नाम संजीवनी,

श्रद्धा सबुरी का देते है दान,

शिरडी के दाता सबसे महान ।।

 

साफ़ शुद्ध होती है जिन दिलो की भावना,

पूरी होती उनकी ही साई के द्वार कामना,

कष्ट मिटाते कष्ट निधान,

शिरडी के दाता सबसे महान ।।

 

साई की धूलि से कभी तुम भभूत ले भी लो,

हर बला से लड़ने की दैवी शक्ति ले भी लो,

जग में बढ़ाते भक्तों की शान,

शिरडी के दाता सबसे महान ।।

 

आस्था में भीग के साई को जो है पुकारते

साई खिवैया बनके ही उनकी नैया तारते

मन की दशा वह लेते है जान

शिरडी के दाता सबसे महान ।।

 

चमत्कार साई बाबा ने जब निराले थे किये,

दिव्या अनोखे पानी से जल गए थे सब दिए,

पल में किया चूर था अभिमान,

शिरडी के दाता सबसे महान ।।

 

जिन क्रूर दुष्टों ने डर दिलो में भर दिया,

सीधे सादे संत ने सही मार्ग उनको दिखा दिया,

दया धरम का वो देते है ज्ञान,

शिरडी के दाता सबसे महान ।।

 

साई के द्वार जो झुके मेल मन का साफ़ कर,

कसूर सबके साई ने माफ़ किये उनको अपनाकर,

कहता सही है सारा जहाँ,

शिरडी के दाता सबसे महान ।।

 

दुनिया भर की नेमते साई जी के पास है,

मांग ले जो है मांगना फिर क्यों इतना उदास है,

सबको ही सुख का देंगे वरदान,

शिरडी के दाता सबसे महान ।।

 

निश्चय वृक्ष को यहाँ फलते हम ने देखा है,

खोटे सिक्को को भी तो चलते हमने देखा है,

श्रद्धा का देते सदा वरदान,

शिरडी के दाता सबसे महान ।।


साईं बाबा के भजन 2 – अदि न अंत तुम्हारा

साईं बाबा के भजन
साईं बाबा के भजन

ॐ जय साईं नाथ,
जय साईं नाथ,
आदि ना अंत तुम्हारा,
तुम्हे श्रद्धा नमन हमारा,
धरती पर रहकर प्रभू तुमने,
तन अम्बर तक विस्तारा,
ॐ जय साईं नाथ,
जय साईं नाथ,
आदि ना अंत तुम्हारा,
तुम्हे श्रद्धा नमन हमारा।।

 

ईश्वरीय आलोक लिए प्रभू,
मानव रूप धरे हो,
चमत्कार ही चमत्कार से,
तुम सम्पूर्ण भरे हो,
चमत्कार ही चमत्कार से,
तुम सम्पूर्ण भरे हो,
सौभाग्य जुड़े तब दर्शन का,
सौभाग्य मिले सुखकारा,
ॐ जय साईं नाथ,
जय साई नाथ,
आदि ना अंत तुम्हारा,
तुम्हे श्रद्धा नमन हमारा।।

 

हम तो तुमसे जोड़ के बैठे,
नाते दुनिया वाले,
रूप विराट दिखाकर तुमने,
मन अचरज में डाले,
रूप विराट दिखाकर तुमने,
मन अचरज में डाले,
साईं नाथ हमे फिर लौटा दो,
वही सहज रूप मनहारा,
ॐ जय साईं नाथ,
जय साई नाथ,
आदि ना अंत तुम्हारा,
तुम्हे श्रद्धा नमन हमारा।।

 

ॐ जय साई नाथ,
जय साईं नाथ,
आदि ना अंत तुम्हारा,
तुम्हे श्रद्धा नमन हमारा,
धरती पर रहकर प्रभू तुमने,
तन अम्बर तक विस्तारा,
ॐ जय साई नाथ,
जय साईं नाथ,
आदि ना अंत तुम्हारा,
तुम्हे श्रद्धा नमन हमारा।।


साईं बाबा के भजन 3 -साईनाथ तेरे हज़ारों हाथ

साईं बाबा के भजन
साईं बाबा के भजन

तू ही फकीर तू ही है राजा
तू ही है साईं तू ही है बाबा

साईनाथ, साईनाथ तेरे हज़ारों हाथ

जिस जिस ने तेरा नाम लिया
तू हो लिया उसके साथ

इत् देखूं तो तू लागे कन्हैय्या
उत् देखूं तो दुर्गा मैय्या
नानक की मुस्कान है मुख पर
शान-ए-मोहम्मद भी है मुख पर
साईनाथ, साईनाथ तेरे हज़ारों हाथ ।।

राम नाम की है तू माला
गौतम वाला तुझ में उजाला
नीम तेरे की मीठी छाया
बदले हर चोले की काया
साईनाथ, साईनाथ तेरे हज़ारों हाथ ।।

तेरा दर है दया का सागर
सब मजहब भरते है गागर
पावन पारस तेरी आग
तेरा पत्थर कण कण राग
साईनाथ, साईनाथ तेरे हज़ारों हाथ ।।

तेरा मंदिर सब का मदीना
जो भी आये सीखे जीना
तू चाहे तो टल जाये घात
तू ही भोला तू ही नाथ
साईनाथ, साईनाथ तेरे हज़ारों हाथ ।।


साईं बाबा के भजन 4 – शिर्डी वाले साईं बाबा आया है तेरे दर पे सवाली

साईं बाबा के भजन
साईं बाबा के भजन

ज़माने में कहाँ टूटी हुई तस्वीर बनती है,
तेरे दरबार में बिगड़ी हुई तकदीर बनती है ॥

तारीफ़ तेरी निकली है दिल से आई है लब पे बन के कवाली,

शिर्डी वाले साईं बाबा आया है तेरे दर पे सवाली,
लब पे दुआए, आँखों में आंसू, दिल में उमीदें, पर झोली खाली ॥

ओ मेरे साईं देवा, तेरे सब नाम लेवा,
जुदा इंसान सारे, सभी तुझ को प्यारे,
सुने फ़रिआद सब की, तुझे है याद सब की,
बड़ा है कोई छोटा, नहीं मायूस लौटा,
अमीरों का सहारा, गरीबो का गुजारा,
तेरी रहमत का किस्सा बयान बावरा करे क्या,
दो दिन की दुनिया, दुनिया है गुलशन, सब फूल कांटे, तू सब का माली ॥

खुदा की शान तुझ में, दिखे भगवान् तुझ में,
तुझे सब मानते हैं, तेरा घर जानते हैं,
चले आते हैं दौड़े, जो खुशकिस्मत हैं थोड़े,
यह हर राही की मंजिल, यह हर कश्ती का साहिल,
जिसे सब ने निकाला, उसे तुने संभाला,
तू बिछड़ो को मिलाये, बुझे दीपक जलाए,
यह गम की राते, राते यह काली, इनको बनादे बाबा ईद और दीवाली ॥

●◆★ समाप्त ★◆●

नोट:- इस आर्टिकल में लिखी गयी सभी जानकारी को लिखनें मे बेहद सावधानी बरती गयी है.फिर भी किसी भी प्रकार त्रुटि की संभावना से इनकार नही किया जा सकता.इसके लिए आपके सुझाव कमेंट के माध्यम से सादर आमंत्रित हैं.

शेयर करे !