क्रेडिट कार्ड क्या होता है? Credit card kya hai?

Credit card kya hai क्रेडिट कार्ड बैंक द्वारा जारी किया गया प्लास्टिक का एक विशेष कार्ड होता है.क्रेडिट कार्ड की मदत से बिना नगद के रुपयों का भुगतान किया जा सकता है.लोग अनजाने में क्रेडिट कार्ड की तुलना एटीएम या डेबिट कार्ड के साथ करते है,जो की गलत है.क्रेडिट कार्ड का काम करने का तरीका डेबिट कार्ड से पूरी तरह से अलग है.

डेबिट और क्रेडिट कार्ड में अंतर – Credit card kya hai ?

एटीएम या डेबिट कार्ड की तरह दिखने वाला क्रेडिट कार्ड डेबिट कार्ड से अलग तरीके से काम करता है.डेबिट कार्ड आपके बैंक खाते से जुड़ा हुआ होता है. डेबिट कार्ड से भुगतान करने के लिए आपके बैंक खाते में पैसे होना बेहद जरुरी है.अगर आपके बैंक खाते में पैसे नही हे तो फिर आप किसी भी तरह का व्यवहार डेबिट कार्ड की मदत से नही कर सकते.

दूसरी और क्रेडिट कार्ड किसी भी बैंक खाते से जुड़ा हुआ नही होता.आपके बैंक खाते में चाहे पैसे हो या न हो आप क्रेडिट कार्ड का इस्तेमाल कर सकते है.और क्रेडिट कार्ड के माध्यम से हर तरह की सेवा का भुगतान कर सकते है.

क्रेडिट कार्ड होता क्या है? – Credit card kya hai ?

क्रेडिट कार्ड दिखने में साधारण प्लास्टिक कार्ड की तरह ही होता है.क्रेडिट कार्ड के माध्यम से बैंक, कार्ड धारक को कुछ पैसे उधार के तौर पर देती है.यह पैसे नगद नही होते है.पैसो को डिजिटल रूप में क्रेडिट कार्ड में जमा रखा जाता है.क्रेडिट कार्ड की माध्यम से बैंक हर महीने आपको कुछ पैसे उधार देती है.एक तय सिमा के अंदर आप इन पैसो को खर्च कर सकते है.पैसो को खर्च करने के बाद आपको अगले महीने इन पैसो को सूत समेत बैंक को लौटाना होता है.

उदाहरण – Credit card kya hai ?

Credit card kya haiमान लीजिए मेरे पास किसी एक बैंक का क्रेडिट कार्ड है.इस कार्ड की सिमा है 50,000 रुपये.यानि हर महीने बैंक मुझे 50,000 रुपये उधार देगा.यानि इस क्रेडिट कार्ड से में 50,000 रुपयो का लेनदेन या खरीदारी कर सकता हु.मान लीजिए क्रेडिट कार्ड का इस्तेमाल करके मैंने इस महीने में 20,000 का मोबाइल फोन ख़रीदा.मतलब मैंने क्रेडिट कार्ड में से 20,000 का इस्तेमाल किया.अब अगले महीने मुझे बैंक की तरफ से क्रेडिट कार्ड का बिल आयेगा.जिसमे मैंने जीतनी भी रकम खर्च की उतनी रकम लिखी होगी,साथ में कुछ ब्याज भी होगा.मतलब मुझे अगले महीने बैंक को 20,000 रुपये वापस करने होंगे.साथ में मुझे 20,000 रुपयो पर कुछ ब्याज भी देना पड़ेगा.

अब आप सोच रहे होंगे की इसमें क्रेडिट कार्ड धारक का क्या फायदा है? उसे तो ब्याज देना पड़ रहा है. आपका सोचना बिलकुल सही है.क्रेडिट कार्ड हर किसी के लिए नही है.क्रेडिट कार्ड का इस्तेमाल ज्यादातर नौकरी करने वाले लोग करते है.आम लोगो को क्रेडिट कार्ड का ब्याज देना नही पुराता.

नौकरी करने वाले लोगो को पता होता है की अगले महीने हमारी पगार आएगी और उसमे से हम क्रेडिट कार्ड का बिल भर देंगे.उनके लिए क्रेडिट कार्ड का ब्याज कोई बड़ी बात नही होती.थोडेसे ब्याज के बदले उन्हें इस्तेमाल के लिए पैसे उधार में मिल जाते है.यह नौकरी वालो के लिए फायदेमंद होता है.लेकिन आम इंसान ब्याज देने के लिए कतराता है.इसलिए वो क्रेडिट कार्ड का इस्तेमाल नही करना ही उचित समझता है.इसीलिए बैंक भी हर किसी को क्रेडिट कार्ड नही देता.

क्रेडिट कार्ड किसे मिलता है? – Credit card kya hai ?

क्रेडिट कार्ड के लिए आवेदन हर कोई कर सकता है. लेकिन क्रेडिट कार्ड किसे देना है और किसे नही यह पूरी तरह से बैंक पर निर्भर है.क्रेडिट कार्ड के लिए आवेदन करने पर बैंक आपके खाते के रिकॉर्ड को चेक करती है.जब बैंक को लगता है की आपके पास एक अच्छी आय का साधन है और आप क्रेडिट कार्ड का बिल चूका सकते है. तब बैंक आपको क्रेडिट कार्ड देती है.अगर बैंक को लगता है की आप क्रेडिट कार्ड का बिल नही भर सकेंगे,तो बैंक आपको क्रेडिट कार्ड नही देती है.

क्रेडिट कार्ड आवेदन के लिए जरुरी डॉक्यूमेंट – Credit card kya hai ?

अगर आप क्रेडिट कार्ड के लिए आवेदन करना चाहते हे तो आपके पास कुछ डॉक्यूमेंट होना जरुरी है. इनमे से कुछ डॉक्यूमेंट हर किसी के पास होते है लेकिन कुछ को आपको बनवाना भी पढ़ सकता है.

उम्र का प्रमाणपत्र:- क्रेडिट कार्ड के लिए आवेदन करने के लिए आपकी उम्र 18 साल से ऊपर होनी चाहिए. उम्र को साबित करने के लिए आपके पास बर्थ सर्टिफिकेट,वोटिंग कार्ड या आधार कार्ड होना जरुरी है.

पहचान पत्र :- अपनी पहचान बताने के लिए आपके पास डॉक्यूमेंट होना जरुरी है. पहचान पत्र की तौर पर वोटिंग कार्ड,आधार कार्ड,पासपोर्ट, पैन कार्ड,ड्राइविंग लाइसेंस का इस्तेमाल किया जा सकता है.

अड्रेस प्रूफ:- अपने अड्रेस को बताने के लिए आपको कुछ डॉक्यूमेंट की जरुरत होती है. इसमें टेलेफोन या इलेक्ट्रिक बिल,वोटिंग कार्ड,रेशन कार्ड, पासपोर्ट दिया जा सकता है.

इनकम प्रूफ:- अपनी आय यानि इनकम प्रूफ भी आपको देना पड़ता है.इनकम प्रूफ के लिए आप अपना बचत खाते का इस्तेमाल कर सकते है. या 6 महीने का बैंक स्टेटमेंट का इस्तेमाल किया जा सकता है. अगर आप व्यापारी है तो पिछला इनकम टैक्स रिटर्न का इस्तेमाल कर सकते है.

क्रेडिट कार्ड के लिए आवेदन कैसे करे?-Credit card kya hai ?

Credit card kya haiक्रेडिट कार्ड के लिए आवेदन करना बेहद आसान है.क्रेडिट कार्ड के लिए आप ऑनलाइन और ऑफलाइन दोनों तरीकों से आवेदन कर सकते है. ऑफलाइन तरीको से क्रेडिट कार्ड के लिए आवेदन करने के लिए आपको आपके बैंक में जाकर फॉर्म भरना होगा.

अगर आप क्रेडिट कार्ड के लिए ऑनलाइन आवेदन करने की प्रक्रिया हर बैंक के हिसाब से अलग अलग होती है. आपका खाता जिस बैंक में है उस बैंक की वेबसाइट पर जाकर आप क्रेडिट कार्ड के लिए आवेदन कर सकते है.

क्रेडिट कार्ड के फायदे – Credit card kya hai ?

  • क्रेडिट कार्ड का सबसे बड़ा फायदा है कैशलेस और सुरक्षित भुगतान.किसी भी तरह की खरीदारी करने पर आप सुरक्षित ढंग से उसका भुगतान कर सकती है.
  • हर जगह नगद रुपये ले जाने की जरुरत नही होती.क्रेडिट कार्ड की मदत से बड़े से बड़ा और छोटे से छोटा भुगतान बगैर नगद के किया जा सकता है.
  • क्रेडिट कार्ड की मदत से ईएमआई (EMI) सेवा का लाभ उठाया जा सकता है.

यह भी पढ़िए :- ईएमआई (EMI) क्या होता है?

  • क्रेडिट कार्ड की माध्यम से पैसों को उधार के तौर पर लिया जा सकता है.
  • क्रेडिट कार्ड से भुगतान करने पर कई मौकों पर डिस्काउंट मिलता है.
  • ऑनलाइन शौपिंग में क्रेडिट कार्ड धारको को स्पेशल ऑफर मिलती है.

क्रेडिट कार्ड के नुकसान – Credit card kya hai ?

Credit card kya hai

  • क्रेडिट कार्ड का सबसे बड़ा नुकसान है ब्याज. क्रेडिट कार्ड के इस्तेमाल के बाद इसपर ब्याज देना पड़ता है.
  • कई लोगो का मानना है की,जेब में हर वक़्त क्रेडिट कार्ड होने से खर्चे बढ़ जाते है.यानि फिजूल का खर्च बढ़ जाता है.
  • क्रेडिट कार्ड का इस्तेमाल करने पर बैंक आपसे साल के अंत में प्रोसेसिंग फीज लेता है.
शेयर करे !