हिंग्लिश क्या है? Hinglish kya hai ?

Hinglish kya hai

Hinglish kya hai -हिंग्लिश क्या है ?

Hinglish kya hai हिंग्लिश हिंदी और इंग्लिश भाषा का बिगड़ा हुआ रूप है.हिंग्लिश शब्द हिंदी का “हि” और इंग्लिश के “ग्लिश” को मिलाकर (हि+ग्लिश) बना है.हिंग्लिश भाषा को कोई प्रादेशिक,राजनैतिक या सामाजिक आधार नही है. और नही इस भाषा में कोई व्यवहार होता है.

हिंग्लिश का इस्तेमाल – Hinglish kya hai

कोई भी ठोस आधार न होने के बावजूद इंटरनेट की दुनिया में हिंग्लिश का प्रभाव देखने को मिलता है.हिंदी में लिखने की सुविधा न होने की वजह से इस भाषा का प्रभाव बढ़ा है.हिंग्लिश का इस्तेमाल सबसे ज्यादा सोशल मीडिया पर होता है.हिंदी भाषक ही हिंग्लिश का सबसे ज्यादा इस्तेमाल करते है.

हिंग्लिश का उपयोग मोबइल के साथ ही होने लगा था.कुछ सालों पहले स्मार्टफोन नही होते तब.12 बटनों वाले मोबाइल फ़ोन का जमाना था.तब बटनों वाले छोटे मोबाइल फ़ोन पर हिंदी में सन्देश भेजना किसी युद्ध से कम नही था.इसलिए लोग इंग्लिश में टाइप करके सन्देश भेजते थे. यह भाषा तो हिंदी ही थी, मगर लिखा इंग्लिश अक्षरो में होता था.

इसके साथ ही मोबइल टेक्नोलॉजी में क्रांति हुयी.बटनों वाले मोबाइल की जगह क़ुएट्री कीपैड वाले मोबाइल फ़ोन ने ली.इन मोबाइल फ़ोन में 12 की जगह तकरिबन 45 बटन होते थे.इससे हिंग्लिश लिखना और आसान हो गया और देवनागरी यानि हिंदी लिखना और भी मुश्किल.

टचस्क्रीन के जमाने में भी इंटरनेट पर हिंदी से ज्यादा हिंग्लिश का प्रभाव देखने को मिलता है.व्हाट्सएप्प या मेसेंजर पर हिंग्लिश में ही सन्देश भेजे जाते है.गूगल परभी हिंग्लिश में ही सर्च किया जाता है.इंटरनेट पर बेहदसी ऐसी वेबसाइट है जो हिंग्लिश में जानकारी देते है.लेकिन अब तस्वीर बदल रही है.एंड्राइड स्मार्टफोन आने के बाद हिंदी लिखने वालों की संख्या बढ़ी है.एंड्राइड स्मार्टफोन में बहोतसे ऐसे एप्लीकेशन मौजूद है जिससे हिंदी लिखना बेहद आसान हो जाता है.गूगल के द्वारा किये सर्वे में पाया गया है की,हिंदी भाषा का उपयोग बढ़ रहा है.अब इंटरनेट गांव गांव तक पोहंच रहा है.जहा लोग हिंदी में जानना और पढ़ना पसंद करते है.

Hinglish kya hai
हिंदी

Hinglish kya hai – हिंदी को हिंग्लिश से खतरा

हिंग्लिश कोई आधिकारिक भाषा नही है.इसलिए हिंग्लिश की वजह से हिंदी का कोई नुकसान नही हो सकता.लेकिन आम बोलचाल में हिंग्लिश के बढते इस्तेमाल से कई हिंदी शब्दों का अस्तित्व खतरे में है.सेकड़ो ऐसे शब्द है जिनका मूल हिंदी शब्द हम भूल गए है.ऐसे में आनेवाले पीढ़ी को हिंदी के वह मूल शब्द देने में हम असमर्थ साबित हो सकते है.हिंदी को हिंग्लिश से ज्यादा ऐसे हिंदी भाषिको का खतरा है.जो जानबूझकर हिंग्लिश शब्दों का इस्तेमाल करते है और हिंदी का इस्तेमाल करने से संकोच करते है.

Hinglish kya hai – हिंदी और हिंग्लिश का भविष्य

हिंग्लिश का कोई भविष्य नही है.यह भाषा केवल सोशल मीडिया और इंटरनेट की दुनिया तक ही सिमित है.हिंग्लिश वही लोग समझते है जो हिंदी जानते है.इससे बढ़कर हिंग्लिश को कोई नही इस्तेमाल नही करता.हिंग्लिश केवल और केवल असुविधा की उपज है. हालांकि इसका इस्तेमाल बेहद होता हे फिर भी यह पूरी तरह से निराधार है.

लेकिन हिंदी का अतीत और भविष्य दोनों ही उज्वल है.भारत की तकरीबन आधी आबादी हिंदी समझती है. दुनिया के महानतम साहित्य,संगीत हिंदी में फलफूल रहे है. दुनियाभर में हिंदी को सीखने वालों की संख्या बढ़ रही है. गूगल के अनुसार हिंदी मइ जानकारी खोजने की संख्या हर साल तेजी से बढ़ रही है.और आनेवाले वक़्त में हिंदी में भी वह सब जानकारियां उपलब्ध होंगी जो आज केवल इंग्लिश में उपलब्ध है.

शेयर करे !