नेट बैंकिंग क्या होता है ? Net banking kya hai ?

Net banking kya hai in hindi

नेट बैंकिंग क्या होता है ?-Net banking kya hai ?

Net banking kya hai इंटरनेट की माध्यम से बैंक की सुविधाओं का लाभ उठाना ही नेट बैंकिंग होता है. नेट बैंकिंग को ऑनलाइन बैंकिंग,वेब बैंकिंग,इंटरनेट बैंकिंग,डिजिटल बैंकिंग,ई-बैंकिंग और वर्चुअल बैंकिंग भी कहा जाता है.बैंकिंग का मतलब बैंक से जुड़े हुए काम करना, और नेट बैंकिंग का मतलब इंटरनेट के माध्यम से बैंक से जुड़े हुए काम करना होता है.

नए ग्राहकों को अपनी तरफ आकर्षित करने के लिए,दुनियाभर के बैंक नई नई टेक्नोलॉजी को अपना रहे है.बैंक जानते है की इस रफ़्तार भरी जिंदगी में ग्राहक घंटो तक बैंक के लंबी लंबी लाइन में खड़ा रहना पसंद नही करते.इसलिए दुनियाभर के बैंको ने अपने ग्राहकों के लिए ऐसी सुविधाएं बनायीं. जिसकी वजह से ग्राहको की ऊर्जा और वक़्त दोनों बच सके.इसी का नतीजा इंटरनेट या नेट बैंकिंग है. नेट बैंकिंग के जरिए उपभोक्ता को बैंक में जाने की जरुरत नही पड़ती.उपभोक्ता बैंक से जुडी सभी सेवाओं का लाभ इंटरनेट की मदत से घरबैठे ले सकते है.

नेट बैंकिंग का अकाउंट कैसे बनाया जाता है ? – Net banking kya hai ?

आप घरबैठे नेट बैंकिंग का उपयोग कर सकते है.नेट बैंकिंग का उपयोग करने के लिए केवल दो चीजों की आवश्यकता है.एक तो इंटरनेट और दुसरा है बैंक अकाउंट.

इंटरनेट के बिना नेट बैंकिंग का कोई वजूद नही होता. नेट बैंकिंग की सुविधा लेने के लिए आपके पास इंटरनेट होना बेहद जरुरी है.इंटरनेट कनेक्शन आपके कंप्यूटर या स्मार्टफोन में होना चाहिए.नेट बैंकिंग की सुविधा स्मार्टफोन,कंप्यूटर, लैपटॉप और टेबलेट जैसी हर डिवाइस पर ली जा सकती है जिसमे इंटरनेट चलता हो.

नेट बैंकिंग के लिए दूसरी सबसे जरुरी चीज है,बैंक अकाउंट.आम बैंक अकाउंट और नेट बैंकिंग के अकाउंट में फरक होता है.नेट बैंकिंग की सेवा लेने के लिए बैंक में अकाउंट होना जरुरी है.इसके बाद ही नेट बैंकिंग का अकाउंट बनाया जा सकता है.आप अपने बैंक के ब्रांच में जाकर नेट बैंकिंग का अकाउंट बना सकते हो.या फिर नेट बैंकिंग का अकाउंट घरबैठे इंटरनेट पर बनाया जा सकता है.घरबैठे नेट बैंकिंग का अकाउंट बनाना बेहद आसान होता है.इंटरनेट पर नेट बैंकिंग का अकाउंट बनाने की प्रक्रिया हर बैंक के हिसाब से अलग अलग होती है.जिसे महज कुछ मिनटो में पूरा किया जा सकता है.

नेट बैंकिंग से लेनदेन कैसे होता है? – Net banking kya hai ?

Net banking kya hai आमतौर पर बैंक से पैसे भेजने या निकालने के लिए आपको बैंक में जाकर डिपॉज़िट का फॉर्म भरना पड़ता है.बादमे बैंक की लंबी कतार में खड़े होकर अपनी बारी का इंतेजार करना पड़ता है.और कई मिनटों या घंटो के बाद आपके पैसे भेजे या निकाले जाते है.लेकिन नेट बैंकिंग में यह प्रक्रिया बेहद सरल और जल्दी हो जाती है.पैसो के लेनदेन के लिए आपको बैंक जानेकी जरुरत नही पड़ती.बस अपने कंप्यूटर या स्मार्टफोन से नेट बैंकिंग के अकाउंट में लॉगिन करना पड़ता है.और महज कुछ सेकंद के भीतर सुरक्षित ढंग से आपके पैसो का लेनदेन हो जाता है.

नेट बैंकिंग से लेनदेन करने के लिए आपको सबसे पहले अपने यूजर आईडी और पासवर्ड के जरिए अपने अकाउंट में लॉगिन करना पड़ता है. यह यूजर आईडी और पासवर्ड आपको नेट बैंकिंग का अकाउंट बनाते समय मिल जाते है.एकबार अपने अकाउंट में लॉगिन होने के बाद आप बैंक से जुडी हर सुविधा का लाभ उठा सकते है.पैसो का लेनदेन करते समय आपको ट्रांजेक्शन पासवर्ड माँगा जाता है.इस ट्रांजेक्शन पासवर्ड को डालने के बाद आपके पैसो का लेनदेन पूरा हो जाता है.बगैर ट्रांजेक्शन पासवर्ड के पैसो का लेनदेन नही किया जा सकता.

यह भी पढ़िए :- ट्रांजेक्शन पासवर्ड क्या होता है?

नेट बैंकिंग के फायदे – Net banking kya hai ?

इंटरनेट बैंकिंग के फायदों की वजह से ही इसकी लोकप्रियता तेजी से बढ़ रही है.बैंकिंग से जुडी हर सुविधा और योजनाओं का फायदा नेट बैंकिंग के जरिए उठाया जा सकता है.नेट बैंकिंग से जुड़े कुछ प्रमुख फायदे कुछ इस प्रकार है:-

  • वक़्त और ऊर्जा की बचत नेटबैंकिंग का सबसे बड़ा फायदा है.और इसी फायदे की वजह से लोग नेटबैंकिंग की तरफ आकर्षित हो रहे है और इसे बड़े पैमाने पर इस्तेमाल कर रहे है.
  • नेट बैंकिंग की मदत से घरबैठे सुरक्षित रूप से पैसों का लेनदेन किया जा सकता है.
  • इंटरनेट बैंकिंग के वजह से रिचार्ज,बिल,ऑनलाइन शॉपिंग जैसी सेवाओं का भुगतान आसानी से कर सकते है.
  • नेट बैंकिंग की मदत से कभी भी,कई भी पैसे भेजे जा सकते है.
  • नेट बैंकिंग की मदत से कभी भी,कई से भी पैसे मँगाए भी जा सकते है.
  • इंटरनेट बैंकिंग की मदत से छुट्टी के दिन भी पैसो का लेनदेन किया जा सकता है.
  • नेट बैंकिंग की मदत से आसानी से घरबैठे बैंक बैलेंस चेक किया जा सकता है.

यह भी पढ़िए :- मोबाइल पर आसानी से बैंक बैलेंस कैसे चेक करे?

  • नेट बैंकिंग की मदत से आसानी से घरबैठे बैंक का मिनी स्टेटमेंट चेक किया जा सकता है.
  • नेट बैंकिंग की मदत से आसानी से घरबैठे चेकबुक के लिए अप्लाई किया जा सकता है.
  • साथ ही नेट बैंकिंग की मदत से आसानी से घरबैठे फिक्स्ड डिपाजिट(FD) जैसे अकाउंट भी खोले जा सकता है.
  • नेट बैंकिंग के और भी फायदे है जैसे,शेयर मार्किट और म्यूच्यूअल फण्ड में इनवेस्टमेंट के दौरान नेट बैंकिंग का उपयोग होता है.इन्शुरन्स जैसी सेवा लेते समय नेट बैंकिंग का उपयोग होता है

नेट बैंकिंग करते समय ध्यान में रखनी वाली बाते – Net banking kya hai ?

Net banking kya hai ध्यान देकर सही ढंग से इस्तेमाल करने पर नेट बैंकिंग काफी सुरक्षित साबित होती है.फिर भी नेट बैंकिंग करते समय कुछ बुनयादी बातों का ध्यान रखना बेहद जरुरी है:-

  • नेट बैंकिंग किसी और के कंप्यूटर या स्मार्टफोन से ना करे.इससे आपके पासवर्ड की चोरी हो सकती है.
  • नेट बैंकिंग का इस्तेमाल पब्लिक इंटरनेट कैफ़े में नही करना चाहिए.ऐसा करने पर आपके पासवर्ड की चोरी हो सकती है और आपके अकाउंट के हैक होने की संभावना होती है.
  • अगर अर्जेंट वक़्त में आपको नेट बैंकिंग का इस्तेमाल किसी और के कंप्यूटर,स्मार्टफोन या फिर इंटरनेट कैफ़े से करना पड जाए तो हमेशा ब्राउज़र में इंकॉग्निटो मोड का इस्तेमाल करे.

यह भी पढ़िए :- इंकॉग्निटो मोड क्या होता है ?

  • नेट बैंकिंग का इस्तेमाल करते समय इस बात काध्यान रखे की आपकी लॉगिन आईडी और पासवर्ड किसी को पता ना चले.
  • नेट बैंकिंग में ट्रांजेक्शन पासवर्ड सबसे महत्वपूर्ण होता है.ट्रांजेक्शन पासवर्ड को कई पर लिख कर न रखे.ट्रांजेक्शन पासवर्ड को अपने दिमाग में याद कर ले.
  • ट्रांजेक्शन पासवर्ड को किसी के साथ शेयर न करे.समय समय पर ट्रांजेक्शन पासवर्ड को बदलते रहिए.
शेयर करे !