Prescription क्या होता है? Prescription kya hai ?

Prescription kya hai hindi

Prescription kya hai बिमार हो जाने पर हम डॉक्टर के पास जाते है.डॉक्टर हमारे शरीर की जाँच करके हमारा इलाज करता है.साथ में डॉक्टर हमें दवा भी देता है.कई बार डॉक्टर अपने पास रखी पर्ची पर दवाओं का नाम लिखकर देता है.इस पर्ची को मेडिकल स्टोर में दिखाकर हम दवा खरीदते है.डॉक्टर के द्वारा दियी गयी इस पर्ची को प्रिस्क्रिप्शन कहते है.

प्रिस्क्रिप्शन का मतलब रिकमेंड यानि सुजाव होता है.प्रिस्क्रिप्शन पर्ची के माध्यम से डॉक्टर हमें दवा का सुजाव देता है.साथ ही डॉक्टर मेडिकल स्टोर को भी सुजाव देता है की, पर्ची पर लिखी दवा मरीज को दियी जाए.यानि प्रिस्क्रिप्शन की माध्यम से डॉक्टर यह बताता है की उसने मरीज की जाँच की है. और मेडिकल स्टोर मरीज को उसकी जरुरत की दवा मुहैया कराए.

प्रिस्क्रिप्शन की जरुरत क्यों पड़ती है? – Prescription kya hai?

Prescription kya hai

बाजार में कई ऐसी दवा मौजूद है जिनके गलत इस्तेमाल से गंभीर परिणाम हो सकते है.इन दवाओं को बेचने के कुछ नियम बनाये गए है.बिना प्रिस्क्रिप्शन के इन दवाओं को बेचना जुर्म होता है.इसलिए मेडिकल स्टोर बिना प्रिस्क्रिप्शन के इन दवाओं को नही बेचते है.

जब भी ग्राहक को ऐसी किसी दवा की जरुरत होती है, तो सबसे पहले उसे डॉक्टर के पास जाकर उस दवा के लिए प्रिस्क्रिप्शन लाना पड़ता है.मरीज के डॉक्टर के पास जाने पर डॉक्टर इस बात की पुष्टि करता है की,मरीज को सचमे इस दवा की जरुरत है या नहीं.अगर डॉक्टर को लगता है की मरीज को वाकई में इन दवाओं की जरुरत है तब डॉक्टर मरीज को उस दवा का प्रिस्क्रिप्शन दे देता है. इस प्रिस्क्रिप्शन को दिखाकर मरीज आसानी से उस दवा को किसी भी मेडिकल स्टोर से खरीद सकता है.

ऑनलाइन दवा की खरीदारी और प्रिस्क्रिप्शन – Prescription kya hai?

Prescription kya hai

आज की इंटरनेट की दुनिया में हर चीज ऑनलाइन मिलती है.आज इंटरनेट पर कई ऐसी वेबसाइट मौजूद है, जो ऑनलाइन दवा बेचती है.जब भी हम इन वेबसाइट पर दवा खरीदने के लिए जाते है, तब हमें प्रिस्क्रिप्शन अपलोड करने के लिए कहा जाता है.बिना प्रिस्क्रिप्शन के हम ऑनलाइन दवा नही खरीद सकते.इसके पीछे भी यही ऊपर वाले नियम काम करते है.

ऑनलाइन वेबसाइट इस बात का ध्यान रखती है की उनके जरिए किसी भी प्रकार के कानून का उल्लंघन ना हो.इसलिए वे ग्राहक को प्रिस्क्रिप्शन अपलोड करने के लिए कहते है.ग्राहक के प्रिस्क्रिप्शन अपलोड करने पर वेबसाइट इस बात की पुष्टि करती है की प्रिस्क्रिप्शन ठीक है.जब उन्हें लगता है की प्रिस्क्रिप्शन ठीक है, तब वे हमारी दवा हमारे दिए हुए पते पर भेज देती है.

किस तरह की दवा के लिए प्रिस्क्रिप्शन चाहिए? – Prescription kya hai

मार्केट में कई ऐसी दवा है जिनका गलत ढंग से इस्तेमाल करने पर जान जा सकती है.ऐसी हर दवा खरीदने के लिए प्रिस्क्रिप्शन का होना जरुरी है.

उदाहरण
बाजार में कई तरह की वायग्रा की दवा मिलती है.इन दवाओं को डॉक्टर की सलाह के बगैर लेना खतरनाक साबित हो सकता है.

मार्केट में कई तरह की गर्भ निरोधक इंजेक्शन और दवा मिलती है.इनमेंसे कुछ को खरीदने के लिए प्रिस्क्रिप्शन की जरुरत नही होती.लेकिन कुछ इंजेक्शन को बिना प्रिस्क्रिप्शन के बेचना जोखिम भरा हो सकता है.

यह भी पढ़िए :-

 

बाजार में नींद की दवा मौजूद है जिसे बिना डॉक्टर के सलाह के लेना खतरनाक हो सकता है.

बच्चों के संबधित कई ऐसी दवा बाजार में मौजूद है जिसे डॉक्टर की सलाह के बगैर लेने पर आपके मासूम के लिए खतरनाक साबित हो सकता है.

इन सभी संभावित खतरों को देखते हुए ऐसी दवा बिना प्रिस्क्रिप्शन के नही बेची जा सकती.इसलिए मेडिकल स्टोर ऐसी दवा बेचते समय प्रिस्क्रिप्शन माँगते है.

प्रिस्क्रिप्शन के फायदे – Prescription kya hai ?

  • प्रिस्क्रिप्शन के बिना कोई भी ऐसी दवा नही खरीद सकता जिसके गलत इस्तेमाल से किसी के जान को खतरा हो सकता है.
  • संवेदनशील दवा के अनौतिक खरीदारी पर प्रिस्क्रिप्शन की मदत से रोक लगती है.
  • आजकल छोटे लड़के लड़किया टीवी पर जाहिरात देखकर ऐसी दवा खरीदने की कोशिश करते है, जिसका इस्तेमाल उनके लिए हानिकारक हो सकता है.प्रिस्क्रिप्शन की वजह से ऐसी खरीदारी पर रोक लग जाती है.
  • कई ऑनलाइन वेबसाइट प्रिस्क्रिप्शन के साथ खरीदारी करने पर डिस्काउंट देती है.जिसकी मदत से पैसो की बचत हो जाती है.

प्रिस्क्रिप्शन के नुकसान – Prescription kya hai ?

  • कई बार जरुरत होते हुए भी हम अपनी मनचाही दवा नही खरीद पाते है.
  • प्रिस्क्रिप्शन खो जाने पर हमें फिरसे डॉक्टर के पास जाना पड़ता है.
  • बिना प्रिस्क्रिप्शन के ऑनलाइन दवा नही खरीद सकते.
शेयर करे !